Storybooks logo
Adventures in Saving the Environment
पर्यावरण को बचाने में साहसिक कार्य

Adventures in Saving the Environment
पर्यावरण को बचाने में साहसिक कार्य

Aanya standing in front of her school with her friends
Once upon a time in the magical city of Udaipur, there lived a smart and curious girl named Aanya. She loved going to school, playing with her friends, and exploring the beautiful lakes and gardens of her city.

एक समय की बात है, जादुई शहर उदयपुर में आन्या नाम की एक बुद्धिमान और जिज्ञासु लड़की रहती थी। उसे स्कूल जाना, अपने दोस्तों के साथ खेलना और अपने शहर की खूबसूरत झीलों और बगीचों को देखना पसंद था।
Aanya listening attentively to her nani
One day, Aanya sat down with her nani and listened to stories about how the environment was much cleaner and greener in her parents' and grandparents' days. It made her think about the world she was living in and how she wanted to make a difference.

एक दिन, आन्या अपनी नानी के साथ बैठी और कहानियाँ सुनीं कि उसके माता-पिता और दादा-दादी के दिनों में पर्यावरण कितना स्वच्छ और हरा-भरा था। इसने उसे उस दुनिया के बारे में सोचने पर मजबूर कर दिया जिसमें वह रह रही थी और वह कैसे बदलाव लाना चाहती थी।
Aanya talking to her teacher about the environment
Aanya couldn't stop thinking about the environment and how she could help make it better. She decided to take action and started reaching out to adults in her community to share her concerns and ideas. Aanya believed that every small step could make a big difference.

आन्या पर्यावरण के बारे में सोचना बंद नहीं कर सकी और वह इसे बेहतर बनाने में कैसे मदद कर सकती है। उसने कार्रवाई करने का फैसला किया और अपनी चिंताओं और विचारों को साझा करने के लिए अपने समुदाय के वयस्कों तक पहुंचना शुरू कर दिया। आन्या का मानना था कि हर छोटा कदम बड़ा बदलाव ला सकता है।
Aanya planting a tree with her friends
Each day, Aanya learned a new way to save the environment from the adults in her community. They taught her how to reduce waste, save water, and plant trees. Aanya was excited to put these new ideas into practice and inspire others to do the same.

प्रत्येक दिन, आन्या ने अपने समुदाय के वयस्कों से पर्यावरण को बचाने का एक नया तरीका सीखा। उन्होंने उसे सिखाया कि बर्बादी कैसे कम करें, पानी कैसे बचाएं और पेड़ कैसे लगाएं। आन्या इन नए विचारों को व्यवहार में लाने और दूसरों को भी ऐसा करने के लिए प्रेरित करने के लिए उत्साहित थी।
Aanya talking to her friends about saving the environment
Aanya didn't stop with adults; she also wanted to motivate kids her age to take action. She organized a 'Save the Environment' club at her school and shared her knowledge and passion with her classmates. Together, they brainstormed innovative solutions to make Udaipur an environmental smart city.

आन्या वयस्कों के साथ नहीं रुकी; वह अपनी उम्र के बच्चों को भी कार्रवाई करने के लिए प्रेरित करना चाहती थी। उन्होंने अपने स्कूल में 'पर्यावरण बचाओ' क्लब का आयोजन किया और अपने सहपाठियों के साथ अपना ज्ञान और जुनून साझा किया। साथ में, उन्होंने उदयपुर को एक पर्यावरण स्मार्ट शहर बनाने के लिए नवीन समाधानों पर विचार-मंथन किया।
People recycling and using public transportation
Aanya's efforts started to pay off. The community noticed the positive changes happening around them. People began recycling more, using public transportation, and conserving energy. The city was transforming into a greener and cleaner place to live.

आन्या की कोशिशें रंग लाने लगीं. समुदाय ने अपने आसपास हो रहे सकारात्मक बदलावों को देखा। लोगों ने अधिक रीसाइक्लिंग, सार्वजनिक परिवहन का उपयोग करना और ऊर्जा का संरक्षण करना शुरू कर दिया। शहर रहने के लिए एक हरे-भरे और स्वच्छ स्थान में परिवर्तित हो रहा था।
Aanya receiving an award for saving the environment
Aanya's dream of making Udaipur an environmental smart city was becoming a reality. She was recognized as a young problem-solver and received an award for her extraordinary efforts in saving the environment. Aanya felt proud and happy to see the impact she had made.

आन्या का उदयपुर को पर्यावरण स्मार्ट सिटी बनाने का सपना साकार हो रहा था। उन्हें एक युवा समस्या-समाधानकर्ता के रूप में पहचाना गया और पर्यावरण को बचाने में उनके असाधारण प्रयासों के लिए उन्हें पुरस्कार मिला। आन्या को अपने प्रभाव को देखकर गर्व और ख़ुशी महसूस हुई।
Aanya and her friends enjoying the clean and green city
With everyone's dedication, Udaipur became a shining example of environmental sustainability. The lakes sparkled with cleanliness, the air felt fresher, and the gardens bloomed with colorful flowers. Aanya and her friends enjoyed their beautiful city even more!

सभी के समर्पण से, उदयपुर पर्यावरणीय स्थिरता का एक चमकदार उदाहरण बन गया। झीलें साफ़-सफ़ाई से चमक उठीं, हवा ताज़ा महसूस हुई और बगीचे रंग-बिरंगे फूलों से खिल उठे। आन्या और उसके दोस्तों ने अपने खूबसूरत शहर का और भी अधिक आनंद लिया!

Reflection Questions

  • How did Aanya feel after listening to her nani's stories?
  • What did Aanya do after learning about the environment?
  • What changes did Aanya and her friends bring to Udaipur?

Once upon a time in the magical city of Udaipur, there lived a smart and curious girl named Aanya. She loved going to school, playing with her friends, and exploring the beautiful lakes and gardens of her city.

एक समय की बात है, जादुई शहर उदयपुर में आन्या नाम की एक बुद्धिमान और जिज्ञासु लड़की रहती थी। उसे स्कूल जाना, अपने दोस्तों के साथ खेलना और अपने शहर की खूबसूरत झीलों और बगीचों को देखना पसंद था।
Aanya standing in front of her school with her friends
One day, Aanya sat down with her nani and listened to stories about how the environment was much cleaner and greener in her parents' and grandparents' days. It made her think about the world she was living in and how she wanted to make a difference.

एक दिन, आन्या अपनी नानी के साथ बैठी और कहानियाँ सुनीं कि उसके माता-पिता और दादा-दादी के दिनों में पर्यावरण कितना स्वच्छ और हरा-भरा था। इसने उसे उस दुनिया के बारे में सोचने पर मजबूर कर दिया जिसमें वह रह रही थी और वह कैसे बदलाव लाना चाहती थी।
Aanya listening attentively to her nani
Aanya couldn't stop thinking about the environment and how she could help make it better. She decided to take action and started reaching out to adults in her community to share her concerns and ideas. Aanya believed that every small step could make a big difference.

आन्या पर्यावरण के बारे में सोचना बंद नहीं कर सकी और वह इसे बेहतर बनाने में कैसे मदद कर सकती है। उसने कार्रवाई करने का फैसला किया और अपनी चिंताओं और विचारों को साझा करने के लिए अपने समुदाय के वयस्कों तक पहुंचना शुरू कर दिया। आन्या का मानना था कि हर छोटा कदम बड़ा बदलाव ला सकता है।
Aanya talking to her teacher about the environment
Each day, Aanya learned a new way to save the environment from the adults in her community. They taught her how to reduce waste, save water, and plant trees. Aanya was excited to put these new ideas into practice and inspire others to do the same.

प्रत्येक दिन, आन्या ने अपने समुदाय के वयस्कों से पर्यावरण को बचाने का एक नया तरीका सीखा। उन्होंने उसे सिखाया कि बर्बादी कैसे कम करें, पानी कैसे बचाएं और पेड़ कैसे लगाएं। आन्या इन नए विचारों को व्यवहार में लाने और दूसरों को भी ऐसा करने के लिए प्रेरित करने के लिए उत्साहित थी।
Aanya planting a tree with her friends
Aanya didn't stop with adults; she also wanted to motivate kids her age to take action. She organized a 'Save the Environment' club at her school and shared her knowledge and passion with her classmates. Together, they brainstormed innovative solutions to make Udaipur an environmental smart city.

आन्या वयस्कों के साथ नहीं रुकी; वह अपनी उम्र के बच्चों को भी कार्रवाई करने के लिए प्रेरित करना चाहती थी। उन्होंने अपने स्कूल में 'पर्यावरण बचाओ' क्लब का आयोजन किया और अपने सहपाठियों के साथ अपना ज्ञान और जुनून साझा किया। साथ में, उन्होंने उदयपुर को एक पर्यावरण स्मार्ट शहर बनाने के लिए नवीन समाधानों पर विचार-मंथन किया।
Aanya talking to her friends about saving the environment
Aanya's efforts started to pay off. The community noticed the positive changes happening around them. People began recycling more, using public transportation, and conserving energy. The city was transforming into a greener and cleaner place to live.

आन्या की कोशिशें रंग लाने लगीं. समुदाय ने अपने आसपास हो रहे सकारात्मक बदलावों को देखा। लोगों ने अधिक रीसाइक्लिंग, सार्वजनिक परिवहन का उपयोग करना और ऊर्जा का संरक्षण करना शुरू कर दिया। शहर रहने के लिए एक हरे-भरे और स्वच्छ स्थान में परिवर्तित हो रहा था।
People recycling and using public transportation
Aanya's dream of making Udaipur an environmental smart city was becoming a reality. She was recognized as a young problem-solver and received an award for her extraordinary efforts in saving the environment. Aanya felt proud and happy to see the impact she had made.

आन्या का उदयपुर को पर्यावरण स्मार्ट सिटी बनाने का सपना साकार हो रहा था। उन्हें एक युवा समस्या-समाधानकर्ता के रूप में पहचाना गया और पर्यावरण को बचाने में उनके असाधारण प्रयासों के लिए उन्हें पुरस्कार मिला। आन्या को अपने प्रभाव को देखकर गर्व और ख़ुशी महसूस हुई।
Aanya receiving an award for saving the environment
With everyone's dedication, Udaipur became a shining example of environmental sustainability. The lakes sparkled with cleanliness, the air felt fresher, and the gardens bloomed with colorful flowers. Aanya and her friends enjoyed their beautiful city even more!

सभी के समर्पण से, उदयपुर पर्यावरणीय स्थिरता का एक चमकदार उदाहरण बन गया। झीलें साफ़-सफ़ाई से चमक उठीं, हवा ताज़ा महसूस हुई और बगीचे रंग-बिरंगे फूलों से खिल उठे। आन्या और उसके दोस्तों ने अपने खूबसूरत शहर का और भी अधिक आनंद लिया!
Aanya and her friends enjoying the clean and green city

Reflection Questions

  • How did Aanya feel after listening to her nani's stories?
  • What did Aanya do after learning about the environment?
  • What changes did Aanya and her friends bring to Udaipur?